कोरोना के इलाज में यह दवा है असरदार, अमेरिकी शोध में दावा- तीन दिन में मिला आराम

कोरोना के बढ़ते संक्रमण से दुनियाभर के 200 से ज्यादा देश प्रभावित हैं। अमेरिका, ब्राजील, रूस, ब्रिटेन जैसे देशों में स्थिति गंभीर है। भारत में भी हर दिन कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। चिंता की बात यह है कि अबतक उपयोग के लिए इसकी वैक्सीन तैयार नहीं हो सकी है और न ही इसकी कोई निश्चित दवा उपलब्ध है। हालांकि राहत की बात यह है कि पहले से उपलब्ध दवाओं के जरिए कोरोना के लक्षणों का इलाज किया जा रहा है। कोरोना मरीजों को सांस लेने में होने वाली तकलीफों को भी कुछ दवाओं के जरिए कम किया जा रहा है। कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका में कोरोना मरीजों की तकलीफ कम करने और इलाज में मदद करने वाली एक दवा की पहचान की गई है।

सांस की तकलीफ और इम्यून सिस्टम पर नियंत्रण
  • नेशनल कैंसर रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि कैंसर की दवा से कोरोन संक्रमण की गंभीरता कम की जा सकती है और कोरोना के इलाज में मदद मिल सकती है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, ब्लड कैंसर की दवा से संक्रमित मरीजों की सांस लेने की तकलीफ को कम किया जा सकता है। इसके जरिए मरीजों के इम्यून सिस्टम को भी कंट्रोल किया जा सकता है। इम्यून सिस्टम में ज्यादा एक्टिव होने के कारण गंभीर संक्रमण की संभावना होती है।
प्रोटीन को ब्लॉक करती है दवा
  • साइंस इम्यूनोलॉजी जर्नल में प्रकाशित इस शोध के मुताबिक, कैंसर की दवा 'एकैलब्रूटिनिब' कोरोना मरीजों में बीटीके प्रोटीन यानी ब्रूटॉन टायरोसिन काइनेज को ब्लॉक करती है। इम्यून सिस्टम में यह प्रोटीन अहम रोल अदा करता है। कई बार जब इम्यून सिस्टम ज्यादा एक्टिव हो जाता है तो यह शरीर को संक्रमण से बचाने की बजाय सूजन का कारण बनने लगता है।

Post a comment

0 Comments