अर्नब गोस्वामी के साथ महाराष्ट्र सरकार का रवैया निंदनीय: -रवीन्द्र श्रीवास्तव

 



बांसी । मुंबई पुलिस द्वारा वरिष्ठ पत्रकार अर्नब गोस्वामी के साथ किए जा रहे दुर्व्यवहार की पत्रकार समाज कल्याण समिति पूरी तरह निंदा करता है। इस दौरान अन्य पत्रकारों ने भी अर्नब गोस्वामी के साथ पुलिस द्वारा किए जा रहे व्यवहार को गलत ठहराया है।

    पत्रकार समाज कल्याण समिति के जिलाध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार रवीन्द्र  श्रीवास्तव ने कहा है कि अर्नब गोस्वामी को बिना वजह ही मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है। उनके व परिजनों के साथ पुलिस द्वारा गलत व्यवहार किया गया है। चौथे स्तंभ के साथ इस तरह पुलिस का बर्ताव किया जाना बेहद निंदनीय है। वरिष्ठ पत्रकार के साथ अपराधियों की तरह व्यवहार किया जा रहा है जो कि पूर्णत: गलत है। केंद्र सरकार को इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए इस पर पहल करनी चाहिए। एक पत्रकार का काम सरकार से प्रश्न पूछना होता है न कि उसका गुणगान करना। जनता के सवालों के जवाब देने में यदि सरकार सक्षम नहीं है तो ऐसी सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए। इस पर प्रायोजित ढंग से किसी पत्रकार के साथ सत्ता का दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए। महाराष्ट्र सरकार सत्ता के नशे में चूर है। क्या किसी पत्रकार को अब यह सोच समझ कर अपना काम करना होगा कि सत्ता में जो बैठा है उसके हित की सदैव बात की जाए। भले ही वह पूर्ण रूप से गलत हो। यदि सत्ता में बैठी सरकार ऐसा सोचती है तो पत्रकारिता का मूल मंत्र ही नष्ट हो जाएगा। पत्रकारिता का मूल मंत्र ही है सवाल करना। यदि अर्नब गोस्वामी के तीखे सवालों से सरकार डर रही है, सरकार के पास जवाब नहीं है, तो फिर ऐसी सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए, न कि किसी पत्रकार को डरा धमका कर उसकी आवाज को दबाने की कोशिश की जानी चाहिए। आज अर्नब गोस्वामी के साथ देश का हर पत्रकार खड़ा है।  पुलिस द्वारा वरिष्ठ पत्रकार अर्नब गोस्वामी के साथ अपराधियों जैसा बर्ताव किया जा रहा है। जिसका वीडियो वायरल हो रहा है। ऐसे में चौथे स्तंभ के साथ इस तरह का व्यवहार किया जाना लोकतंत्र को खतरे में डाल रहा है। इस पर केंद्र सरकार को पहल करते हुए तत्काल ऐसे कृत्य को रोकना होगा जिससे देश का चौथा स्तंभ सुरक्षित महसूस करें। सरकार के इस रवैए से देश का चौथा स्तंभ बेहद आहत हैं। देश का एक धड़ा पूरी तरह से इसका विरोध कर रहा है। यदि महाराष्ट्र सरकार अर्नब गोस्वामी को नहीं छोड़ती है तो  पत्रकारों का एक बड़ा समूह इसके खिलाफ प्रदर्शन करेगा।

Post a comment

0 Comments