लोटन: थानेदार से नाराज ग्रामीणों का प्रदर्शन

3

सिद्धार्थनगर: एसओ लोटन के खिलाफ मोहाना थाना क्षेत्र के भरमी गांव के ग्रामीणों ने सोमवार को डीएम की गैर मौजूदगी में एडीएम से मिलकर गांव के दो युवकों को जबरन मुकदमा में फंसाने का आरोप लगाया। मामले की जांच की मांग की। आक्रोशित ग्रामीण इसके पश्चात पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे और प्रदर्शन किया। एसपी राम अभिलाष त्रिपाठी से मुलाकात की। कहा कि एसओ जबरन डेढ़ लाख रुपया मांग रहे थे। धर पर शादी थी उसके लिए रखे 50 हजार रुपया उन्हें दे दिया। इसके बावजूद उन्होंने फर्जी मुकदमे में फंसाकर जेल भेज दिया। एसपी ने मामले की जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया। नाराज ग्रामीण एसपी कार्यालय गेट पर जमा हो गए। आधे घंटे तक आवागमन को बंद कर दिया। सूचना पर मौके पर सदर एसओ छत्रपाल सिंह, उप निरीक्षक चंदन कुमार सहित पुलिस टीम पहुंची। ग्रामीणों को काफी समझाया- बुझाया। तब ग्रामीण वापस लौटे।

ग्रामीणों ने सौंपे गए शिकायती पत्र में कहा कि गांव के सुनील सिंह डेयरी फार्म चलाते हैं। सात मार्च की रात उनकी दो गाय डेरी से निकल कर भाग गईं। सिंह के कहने पर गुरुदास व सनउवर गायों को खोजने निकले। दोनों गाय धमरैली गांव के बाग में मिली। इसे वापस लेकर सभी वापस आ रहे थे। एसएसबी के कुछ जवान मिल गए। इसी बीच एसओ भी मौके पर पहुंचे। दोनों गायों के साथ युवकों को लेकर थाने आए। मामले की जानकारी होने पर डेयरी संचालक भी थाने पहुंच गए। उन्होंने गायों को अपना बताते हुए छोड़ने का आग्रह किया। पर पुलिस ने दोनों युवकों को गाय के साथ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत कार्रवाई कर जेल भेज दिया। दोनों जेल से छूटकर घर आए। एसओ लोटन राम अशीष यादव दोबारा दो अप्रैल की रात गांव आए। दोनों युवकों को थाने उठा लाए। घर वालों के विरोध करने पर कहा कि गाय वाली घटना में पूछताछ करनी है, सुबह छोड़ देंगे, पर दोनों पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर फिर से जेल भेज दिया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अनिल सिंह अन्नू, संगीता, आसिया खातून, सुमन, सुनीता, गोपाल सिंह, रवि सिंह, इमान अली, कमलेश, रमेश, रवि, प्रमोद, शेषमन, अकबर अली, सुदामा, राजकुमार, चंपा आदि मौजूद रहे। एसपी राम अभिलाष त्रिपाठी ने कहा कि शिकायती पत्र देते हुए अपना पक्ष रखा है। मामले की जांच करायी जाएगी। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें:  सिद्धार्थनगर/बांसी: प्रमाण पत्र बनाने में घूस मांग रहा लेखपाल निलंबित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here