Siddharthnagar: महाशिवरात्रि आज, पूजे जाएंगे महादेव

2

सिद्धार्थनगर : हिदू धर्म में महाशिवरात्रि पर्व का महत्वपूर्ण स्थान है। यह त्योहार अपने आप में आध्यात्मिक ऊर्जा से ओत-प्रोत करने वाला पर्व है। इस दिन लोग भगवान शिव की आराधना कर ऊर्जा के असीम स्त्रोत की प्राप्ति की कामना करते हैं। फाल्गुन माह के कृष्ण चतुर्दशी को मनाए जाने वाले इस त्योहार की तैयारी पूरी हो चुकी है। शहर से लेकर गांव तक शिवालयों को सजाने व वहां पर जलाभिषेक की पूरी तैयारी की जा चुकी है। शहर में इस दिन भगवान शिव की झांकी निकाली जाएगी।

शिवालयों पर जुटने वाले भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के बंदोबस्त किए है। शहर के मुख्य चौराहे से लगायात स्टेशन रोड पर जगह-जगह पुलिस बल को तैनात किया गया है। सिंहेश्वरी मंदिर के साथ मुख्य चौराहा स्थित शिवालय, रामजानकी मंदिर, बेलहिया मंदिर, थरौली मंदिर आदि जगहों पर काफी भीड़ जुटती है, यहां पर सुरक्षा के लिहाज से पुलिस बल की तैनाती की गई है। इसके अलावा सभी तहसील मुख्यालयों पर भी प्रशासन द्वारा शिवालयों पर जलाभिषेक का इंतजाम किया गया है। डुमरियागंज के भारतभारी में स्थित शिव मंदिर पर विशेष रूप से जलाभिषेक की तैयारी की गई है। इटवा क्षेत्र में प्राचीन शिवमंदिरों का लंबा इतिहास है। यहां भगवान राम के पुत्र कुश द्वारा स्थापित कुशेश्वरनाथ मंदिर हो अथवा भारतभारी में स्थापित शिवलिग, सभी का पौराणिक महत्व है। देईपार स्थित बाबा महेश्वरनाथ का इतिहास भी हजार वर्ष पुराना है।

इन शिवालयों में गुरुवार सुबह से ही भक्तों की भीड़ जलाभिषेक को पहुंचेगी। जहां पर सारी तैयारी पूरी हो चुकी है। सूर्योदय के साथ ही यहां पर हर हर महादेव के नारे के साथ भगवान शिव को जलाभिषेक किया जाएगा। कुशेश्वरनाथ मंदिर के पुजारी पंकज गिरी के मुताबिक प्रात: तीन बजे मंदिर के कपाट भष्माभिषेक के बाद भक्तों के लिए खोले जाएंगे। पवित्र सरोवर को भी स्वच्छ किया गया है। भारतभारी में भी प्रशासन ने सभी इंतजाम पूरे करा लिए हैं। महेश्वरनाथ मंदिर के पुजारी केशव पुरी ने बताया कि सुबह चार बजे मंदिर के कपाट भक्तों के लिए खोले जाएंगे। भंडारे के साथ समाप्त हुआ अखण्ड रामायण का पाठ तहसील अन्तर्गत ग्राम पंचायत अहिरौली पड़री स्थित पडेश्वरनाथ मंदिर पर मंगलवार से शुरू हुए अखंड रामायण पाठ का समापन बुधवार को हवन-पूजन व भंडारे के बीच संपन्न हुआ। हर तरफ का माहौल भक्तिमय दिखाई दिया।धार्मिक अनुष्ठान में कल से ही भक्ति छाई रही। संगीत की धुन पर रामायण का पाठ चलता रहा। सुबह से ही हवन व भंडारे की तैयारी देखी गई। दोपहर में हवन-पूजन प्रारंभ हुआ तो वातावरण सुगंधित हो उठा। पूजन-अर्चन खत्म हुआ तो भंडारा शुरू हुआ, जिसका सिलसिला सायं तक चला। भक्तगण कार्यक्रम में भाग लेते हुए प्रसाद ग्रहण किया। यहां मंदिर पर रात में ही जलाभिषेक शुरू होगा, जिसका क्रम गुरुवार को जारी रहेगा। चारों महाशिवरात्रि की धूम छाई दिखाई देगी। आयोजक बुधराम गिरी ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। पारस गिरी, तमेश्वर गिरी, रघुराज तिवारी, राज किशोर तिवारी, बलिकरन, जीतू, विनय आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें:  पत्रकार सुरक्षा कानून को लेकर जारी रहेगा संघर्ष -रवीन्द्र श्रीवास्तव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here